Life😎

Hi Friends,🥀

What is life ?

A question which comes in  mind of every human being….this question seems easy but its not much easy as it seems. Even after spending whole life we have no answer for this question and again we ask to ourself – What is life ? Is this life ?

Everybody have their own views on life and these views comes out according to the present and past situation of that person. Some says life is a Struggle, Some says Life is Beautiful, Some says enjoying every moment is life, Some says love is life, some says life is learning, some says life is teacher which teaches a new lesson everyday. Sometimes life is hard, sometimes life is challenge, when we lost something, life is hell & we sing a song “meri Zindagi Hai Kya ek kati patang hai” I thought meaning of life changes with the growing age and experience. With growing age/ageing we realise the value of life, with every breath we gain experience from our social and individual life and came to know about the various facts of life. During childhood playing with Toys is life after that playing with friends ….. to be continue…

नमस्कार दोस्तों,

जीवन क्या है ?

यह एक ऐसा सवाल है जो हर इंसान के दिमाग में घूमता है …. यह सवाल आसान लगता है लेकिन यह इतना आसान है नहीं । पूरा जीवन व्यतीत करने के बाद भी हमें इस प्रश्न का कोई जवाब नहीं मिलता और फिर हम खुद से पूछते हैं – जीवन क्या है? क्या यही जीवन है?

सभी के पास जीवन पर अपने विचार हैं और ये विचार उस व्यक्ति की वर्तमान और पिछली स्थिति के अनुसार बाहर आते हैं। कुछ कहते हैं कि जीवन एक संघर्ष है, कुछ कहते हैं कि जीवन सुंदर है, कुछ कहते हैं कि हर पल का आनंद लेना ही जीवन है, कुछ कहते हैं कि प्यार ही जीवन है, कुछ कहते हैं कि जीवन अनुभवों का संग्रह है, कुछ कहते हैं कि जीवन शिक्षक है, जो हर रोज एक नया सबक सिखाता है। कभी-कभी जीवन कठिन होता है, कभी-कभी जीवन चुनौतीपूर्ण होता है,कभी हम कहते है कि गलतियों से सीखना ही जीवन है, जब हम कुछ खो देते हैं, जीवन नरक हो जाता है, हमें कुछ अच्छा नहीं लगता और हम कुछ ऐसे गीत सुनते हैं या गाते है “मेरी जिंदगी है क्या एक कटी पतंग है” और वो हमें उस वक़्त ऐसे लगते है जैसे इन्हें हम पर ही फिल्माया गया हो। मुझे लगता है कि बढ़ती उम्र और अनुभव के साथ जीवन की परिभाषा बदलती रहती है। उम्र बढ़ने के साथ साथ हमारा अपने सामाजिक और व्यक्तिगत जीवन के विभिन्न तथ्यों के बारे में तजुर्बा भी बढ़ता है और हम हर सांस के साथ जीवन के मूल्य का एहसास करते हैं। बचपन के कुछ साल खिलौनों के साथ खेलना जीवन है,

उसके बाद अपने दोस्तों के साथ खेलना………to be continue….